बुधवार, 23 अक्तूबर 2013

हथेलियों में....


जब कुछ नहीं होता
तो बहुत कुछ होता है
हथेलियों में.....

ख्‍वाहिशें....
सपने....
उम्‍मीदें....
आसरे....
यक़ीन...                   

मेरा-तुम्‍हारा....

यादें....
तुम और मैं....

एक कप चाय
के बीच
बहती गुफ्तगुएं.....
लंबी यात्राएं.....

बादलों के बीच खोते रास्‍ते.....
एक रूमानी निश्चिन्‍तता.....

हवाओं के झोंके....
सूखे पत्‍तों से भरे रास्‍ते...

नीला शामियाना....
सुर्ख़ पीला सफेद बल्‍ब
उजियाली सुबहें
सर्द सफेद रातें....
सन्‍नाटे जंगल....
पैरों की थाप....

टहनी पर अटकी कलियां
दानों पर गिरती चिडि़या....

एक खामोशी.....
कुल आवाज़ें.....

जि़न्‍दगी से बात
सारी उजास....
उदासी की शाम...
आवारगी की रात.....
भोर की बात.....
मौजों के साहिल....
शफ्फाक झरने....
एक मौज
एक साहिल.....
एक चांद और ढेर से सितारे.....

बहुत कुछ होता है...
जब कुछ नहीं होता
ह‍थेलियों में.....।
अनुजा
14.09.13
फोटो:आर.सुन्‍दर(c)

15 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (24-10-2013) को "ब्लॉग प्रसारण : अंक 155" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस पोस्ट की चर्चा, बृहस्पतिवार, दिनांक :-24/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -33 पर.
    आप भी पधारें, सादर ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. इतना सब कुछ होते हुए भी कभी कभी कुछ नहीं होता ... सूना पण स रह जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हां, ऐसा भी होता है.......पर सूनापन भी सूना नहीं होता....उसमें भी सूनापन होता है..... पर कुछ होता जरूर है.....उसे महसूसना और जानना क
      भी कभी मुश्किल होता है....।

      हटाएं
  4. कल 25/10/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सचमुच जब कुछ नही होता तब भी बहुत कुछ होता है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्‍यवाद आशा जी...आपका आना हमेशा ही अच्‍छा लगता है....आभार...उपस्थिति बनाये रखने के लिए....

      हटाएं